Punitachariji


में जिसे यह मन्त्र देता हुँ उसे अनुभूति होती है, लेकिन मुझे अनुभूति नहीं होती ऐसा क्युँ ?

देखो भाई,अनुभूति की परिभाषा क्या है ? आप किसको अनुभूति कहते हो ? शरीर हाले डुले उसको अनुभूति कहते हो...