Navratri 2020 – DAY 7
Navratri 2020 | DAY 2
Navratri – DAY 1 – Maa Shailputri
स्वर्ग और मोक्ष के सब सुख, क्षण मात्र के सत्संग के सुख के बराबर नहीं हो सकते
योग-ध्यान ऐसा चूरन है जिससे सभी व्याधियां दूर हो जाती है ।
आत्मा का खुराक है भजन,जप, गुरुधाम में दान, सेवा । इनसे आत्मा पुष्ट होती है ।
गुरु शिष्य परम्परा जन्म जन्मांतर से जुड़ी हुई होती है
सभी कार्य करते हुए जिसके ह्रदय में मंगलमय स्वरुप श्री हरी बिराजमान होते है (मतलब सदा ईश्वर स्मरण रहता है) उसका कभी अमंगल – अशुभ हो ही नहीं सकता ।
जो साधक इस संसार में जल-कमलवत रहता है, कर्तापना का अहंकार नहीं करता ऐसा साधक जीवनमुक्त है ।