तुम शुद्ध स्वभाव , अमृत रूप तथा नित्य हो ।

तुम शुद्ध स्वभाव , अमृत रूप तथा नित्य हो ।