प्रारब्ध के अनुसार सुख – दुःख भोगे बिना कोई रास्ता नहीं है

प्रारब्ध के अनुसार सुख – दुःख भोगे बिना कोई रास्ता नहीं है