हे पार्थ कायर मत बनो ! यह तुम्हारे लिये अशोभनीय है। हे ! परंतप हृदय की क्षुद्र दुर्बलता को त्यागकर खड़े हो जाओ ।।

हे पार्थ कायर मत बनो ! यह तुम्हारे लिये अशोभनीय है। हे ! परंतप हृदय की क्षुद्र दुर्बलता को त्यागकर खड़े हो जाओ ।।